Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2022 · 1 min read

जिन्दगी एक तमन्ना है

जिन्दगी एक तमन्ना है,
जीने की इजाजत है,
जीवन में जीना सिर्फ,
प्यार ही एक मुकाम है।

सासों का चलना है,
वक़्त का गुजरना है,
जिन्दगी एक पल की भी,
प्यार की दीवानी है।

प्यार जो जीवन है,
सुख दुःख में निभाना है,
साथ ही जीना है,
प्यार की निशानी है।

यादो का सिलसिला है,
आँखों का पानी है ,
आना और जाना ही,
जीवन की कहानी है।

रचनाकार ✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा,
हमीरपुर (उत्तर प्रदेश) ।

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
Ravi Prakash
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
नींद
नींद
Diwakar Mahto
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
Santosh Barmaiya #jay
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
Paras Nath Jha
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
■ हंसी-ठट्ठे और घिसे-पिटे भाषणों से तो भला होगा नहीं।
■ हंसी-ठट्ठे और घिसे-पिटे भाषणों से तो भला होगा नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
लतियाते रहिये
लतियाते रहिये
विजय कुमार नामदेव
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
Sakhawat Jisan
3274.*पूर्णिका*
3274.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...