Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 21, 2016 · 1 min read

जिनके दिलों में प्यार वतन का

नये सिरे से नये दौर में ,पहुँचो आज विचार में
जिनके दिलों में प्यार वतन का ,हम हैं उसी कतार में .

बुनियादी परिवर्तन की हम बात यहाँ करने वाले
सही बात है नये नये कुछ प्रतिमान गढ़ने वाले ,
आत्मसात हो दर्द पराया ,बस इसकी दरकार है .
जिनके दिलों में प्यार वतन का ———–

कदम बढ़े जो प्रगति पथ पर ,ध्यान रहे वे रुके नहीं
हिम्मत औ हौसला का परचम,विश्व पटल पर झुके नहीं ,
अपना मंदिर ,अपनी मस्जिद ,क्या रखा तकरार में .
जिनके दिलों में प्यार वतन का —————-

खुदको जबतक हम ना बदलेंगे ,दुनिया को क्या बदलेंगे
बिना बचाए मानव मूल्य के ,भाव कहाँ फिर उबलेंगे ,
मिल जाए सबको हक अपना क्या कहना बिस्तार में .
जिनके दिलों में प्यार वतन का —————-

अलग समय और व्यक्ति के दृष्टिकोण हो सकते हैं
नये धरातल हो सकते हैं ,नये व्योम हो सकते हैं ,
हाथ पहूँच जाए आशा की ,संभावना के द्वार में .
जिनके दिलों में प्यार वतन का …………..

*****************************************

1 Like · 221 Views
You may also like:
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Manisha Manjari
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...