Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 13, 2016 · 1 min read

” जिनके खून पसीने से यह सारी दुनिया चलती है “

न्वादू********************************************
जिनके खून पसीने से यह सारी दुनिया चलती है ।

आज उन्हीं मजदूरों को यह सारी दुनिया छलती है ।

इनका हक़ अब इनको दे दो वरना सब पछताओगे ,

देख मिनारों को कुटिया में इनकी रूह सुलगती है ।
*******************************************
वीर पटेल

168 Views
You may also like:
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
समय ।
Kanchan sarda Malu
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मन
शेख़ जाफ़र खान
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
बेरूखी
Anamika Singh
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
Loading...