Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

जिक्र क्या जुबा पर नाम नही

जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
इससे बडकर और कोई इंतकाम नही

2 Likes · 7860 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
या खुदा तेरा ही करम रहे।
या खुदा तेरा ही करम रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
समय की नाड़ी पर
समय की नाड़ी पर
*Author प्रणय प्रभात*
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बड़े हुए सब चल दिये,
बड़े हुए सब चल दिये,
sushil sarna
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
.........,
.........,
शेखर सिंह
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
हमारे हाथ से एक सबक:
हमारे हाथ से एक सबक:
पूर्वार्थ
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
भगवान की पूजा करने से
भगवान की पूजा करने से
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...