Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

जिंदगी

सच जिंदगी में हम सभी को अपनी परवाह , न तेरी न मेरी बस अपनी जिंदगी अनमोल हैं।
नफरत और प्यार में जीते जिंदगी ,बस अलग अंदाज़ है।
अनमोल जिंदगी के साथ हम सभी वे-मिसाल है।
हमसफ़र जिंदगी में तुम बने, ख़्याल तुम्हारी जिंदगी का अनमोल है।
हम सभी की जिंदगी में मन भावों, स्वार्थ और फरेब है।
बस जिंदगी गुज़र तेरे संग जाए, यही सोच जिंदगी अनमोल हैं।
न संग जिंदगी में तेरे मेरे , बचपन जवानी और बची जिंदगी अनमोल हैं।
आओ लम्हे जिंदगी के जी ले,और कुछ नहीं जिंदगी अनमोल हैं।
जिंदगी के पल न रुकते , हंसी खुशी से ही जिंदगी अनमोल हैं।
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र.

Language: Hindi
359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Avinash
Avinash
Vipin Singh
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
हिन्दी दोहा - स्वागत
हिन्दी दोहा - स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"तरबूज"
Dr. Kishan tandon kranti
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
पूर्वार्थ
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
Raazzz Kumar (Reyansh)
Loading...