Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

जिंदगी में दो ही लम्हे,

जिंदगी में दो ही लम्हे,
मुझ पे गुजरें हैं कठिन,
एक तेरे आने से पहले,
एक तेरे जाने के बाद।

258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prof Neelam Sangwan
View all
You may also like:
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
2506.पूर्णिका
2506.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शक्ति साधना सब करें
शक्ति साधना सब करें
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-542💐
💐प्रेम कौतुक-542💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
dks.lhp
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
साँझ ढली पंछी चले,
साँझ ढली पंछी चले,
sushil sarna
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मेरे जैसे तमाम
मेरे जैसे तमाम "fools" को "अप्रैल फूल" मुबारक।
*Author प्रणय प्रभात*
Destiny
Destiny
Sukoon
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
लज्जा
लज्जा
Shekhar Chandra Mitra
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
पूर्वार्थ
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"साइंस ग्रुप के समान"
Dr. Kishan tandon kranti
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
Loading...