Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

// जिंदगी दो पल की //

जिंदगी दो पल की है,
कभी भी घमंड नही करना हैं!

सत्य के राह पर चलकर,
हमेशा अच्छे कर्म करना हैं!

जिंदगी में खाली हाथ आये हैं,
और खाली हाथ जाना हैं!

मिट्टी का बना शरीर,
एक दिन मिट्टी में मिल जाना हैं!

हजारों सपने,हजारो ख्वाहिशे,
एक पल में खत्म हो जाता हैं!

जिंदगी की यही सच्चाई है कि,
हमे एक दिन दुनिया छोड़कर जाना हैं!

जिंदगी में एक-दूसरे का मददकर,
जिंदगी में खुशी के साथ जीना हैं!

जिंदगी में जो सपने देखे है,
उसको पूरा करना हैं !

जिंदगी दो पल की है,
कभी भी घमंड नही करना हैं!

194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धूल के फूल
धूल के फूल
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
Ravi Prakash
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
रिश्ते
रिश्ते
Shutisha Rajput
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
हर हर महादेव की गूंज है।
हर हर महादेव की गूंज है।
Neeraj Agarwal
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
वैष्णों भोजन खाइए,
वैष्णों भोजन खाइए,
Satish Srijan
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
Avinash
Avinash
Vipin Singh
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
राम समर्पित रहे अवध में,
राम समर्पित रहे अवध में,
Sanjay ' शून्य'
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...