Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

जिंदगी तुझको सलाम

जिंदगी तुझको सलाम, तुमने मुझको जीना सिखाया।
जिंदगी के बुरे दिनों में तुमने,जीने का जोश जगाया।।
जिंदगी तुझको सलाम,—————-।।

नहीं होने दिया उदास मुझे, अपनों ने जब साथ छोड़ा।
नहीं होने दिया निराश मुझे, दोस्तों ने जब हाथ छोड़ा।।
नहीं होने दिया गुमराह मुझे, सही सपना मुझे दिखाया।
जिंदगी के बुरे दिनों में तुमने, जीने का जोश जगाया।।
जिंदगी तुझको सलाम,—————-।।

मैंने दुःखों से सीखा है, सच्चाई जिंदगी की ।
कसौटी जिंदगी की और बन्दगी जिंदगी की।।
देकर खुशी मुझको तुमने, अभिमानी नहीं बनाया।
जिंदगी के बुरे दिनों में तुमने, जीने का जोश जगाया।।
जिंदगी तुझको सलाम—————-।।

मुसीबतें- गम- दुःख ही,जीवन को रोशन बनाते हैं।
जिंदगी का अर्थ क्या है, जीवन को अमृत बनाते हैं।।
देकर मुझको ऐसा जीवन, खुशनसीब मुझको बनाया।
जिंदगी के बुरे दिनों में तुमने, जीने का जोश जगाया।।
जिंदगी तुझको सलाम——————-।।

साहित्यकार एवं शिक्षक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
गुमनाम 'बाबा'
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
*बल गीत (वादल )*
*बल गीत (वादल )*
Rituraj shivem verma
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
Shreedhar
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
Sanjay ' शून्य'
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
Loading...