Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने

जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
प्रेम की निश्छल नई सौगात दी है तुमने
बड़े भाग्य से पाई है सौगात बहारों की
भटकते हुए राही को नई राह दी है तुमने

इंजी. संजय श्रीवास्तव

289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आलाप
आलाप
Punam Pande
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
गांव और वसंत
गांव और वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
डॉ. दीपक मेवाती
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
Loading...