Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

जिंदगी और करार

ज़िंदगी है मगर क़रार नहीं
अब किसी पे भी ऐतबार नहीं

ये सुकूं से भरी नसीहत है
सब करो मेरे यार, प्यार नहीं

तुमको उसकी खुशी गंवारा थी
जीत समझो तुम इसको हार नहीं

मान लेती तुम्हे थी फिक्र मेरी
तुम कराते जब इंतज़ार नहीं

जाम पे जाम पी रहें हैं मगर
एक तेरे सिवा खुमार नहीं

इसमें नुक़सान क्या मुनाफा क्या
इश्क़ है इश्क़ कारोबार नहीं

तुम अनन्या से मांगते हो दिल
इसका दिल पे कुछ इख्तियार नहीं

© अनन्या राय पराशर

8 Likes · 2 Comments · 701 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
अद्भुत नाम
अद्भुत नाम
Satish Srijan
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
■ अंतर...
■ अंतर...
*Author प्रणय प्रभात*
करना है, मतदान हमको
करना है, मतदान हमको
Dushyant Kumar
"तरीका"
Dr. Kishan tandon kranti
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
दोहा
दोहा
sushil sarna
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
DrLakshman Jha Parimal
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
Loading...