Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

जिंदगी और करार

ज़िंदगी है मगर क़रार नहीं
अब किसी पे भी ऐतबार नहीं

ये सुकूं से भरी नसीहत है
सब करो मेरे यार, प्यार नहीं

तुमको उसकी खुशी गंवारा थी
जीत समझो तुम इसको हार नहीं

मान लेती तुम्हे थी फिक्र मेरी
तुम कराते जब इंतज़ार नहीं

जाम पे जाम पी रहें हैं मगर
एक तेरे सिवा खुमार नहीं

इसमें नुक़सान क्या मुनाफा क्या
इश्क़ है इश्क़ कारोबार नहीं

तुम अनन्या से मांगते हो दिल
इसका दिल पे कुछ इख्तियार नहीं

© अनन्या राय पराशर

8 Likes · 1 Comment · 412 Views
You may also like:
नूतन वर्ष की नई सुबह
Kavita Chouhan
गुनाहों का सज्जा क्या दु
Anurag pandey
✍️जिगर को सी लिया...!
'अशांत' शेखर
अधूरापन
Harshvardhan "आवारा"
कहाँ मिलेंगे तेरे क़दमों के निशाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होके रहेगा इंक़लाब
Shekhar Chandra Mitra
डेली पैसिंजर
Arvina
हरतालिका तीज
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
लगदी तू मुझकों कमाल sodiye
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरी मातृभाषा हिन्दी है
gurudeenverma198
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
लोधी क्षत्रिय वंश
Shyam Singh Lodhi (LR)
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
माँ महागौरी
Vandana Namdev
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
*आजकल भाती है बेटियॉं (गीतिका)*
Ravi Prakash
आज का आम आदमी
Shyam Sundar Subramanian
कोई बात भी नहीं है।
Taj Mohammad
योग
DrKavi Nirmal
तुम
Rashmi Sanjay
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं,...
Manisha Manjari
पौष की सर्दी/
जगदीश शर्मा सहज
देख आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
Shilpi Singh
"तुम हक़ीक़त हो ख़्वाब हो या लिखी हुई कोई ख़ुबसूरत...
Lohit Tamta
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
Loading...