Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

जिंदगी एक भंवर है

जिंदगी एक भंवर है
इससे निकलना सीख लो
जिस कदर उलझे हैं रिश्ते
उन्हें सुलझाना सीख लो।

हरमिंदर कौर, अमरोहा

2 Likes · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उम्मीद -ए- दिल
उम्मीद -ए- दिल
Shyam Sundar Subramanian
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
व्याकरण पढ़े,
व्याकरण पढ़े,
Dr. Vaishali Verma
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
समय
समय
Swami Ganganiya
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
VINOD CHAUHAN
बनारस का घाट
बनारस का घाट
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Carry me away
Carry me away
SURYA PRAKASH SHARMA
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
Ravi Prakash
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...