Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

जिंदगी उधेड़बुन का नाम नहीं है

जिंदगी उधेड़बुन का नाम नहीं है
कई अनुभवों के इसमें निशान हैं

मैं तो अपने काम से काम रखता हूं
लोग क्यो मेरी तरक्की से परेशान है

✍कवि दीपक सरल

1 Like · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
Jay Dewangan
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
तोड़ा है तुमने मुझे
तोड़ा है तुमने मुझे
Madhuyanka Raj
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
"सैल्यूट"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
Rachana
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
Loading...