Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

जान हो तुम …

सुबह का पहला और रात का आख़िरी ख़याल हो तुम,
मेरे जेहन में जो हर बार आता है, वो सवाल हो तुम,
मेरे लिए एक भी तुम और हज़ार हो तुम ।
इस नफ़रत भरी दुनिया में मेरा प्यार हो तुम ।
मेरी गीता भी हो और क़ुरान हो तुम ।
एक शब्द में कहूँ तो मेरी ‘जान’ हो तुम ।।

— सूर्या

1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
शेखर सिंह
भोजपुरी गायक
भोजपुरी गायक
Shekhar Chandra Mitra
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
बड़े भाग मानुष तन पावा
बड़े भाग मानुष तन पावा
आकांक्षा राय
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
पूर्वार्थ
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
Loading...