Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

जाने क्यूँ उसको सोचकर -“गुप्तरत्न” भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ

जाने क्यूँ उसको सोचकर
मेरे चेहरे पर मुस्कराहट सी आ जाती है ,
वो न था ,न हो सकता था कभी मेरा ,
फिर भी,जाने क्यूँ उसको सोचकर
गर्मी में भी ठंडी हवाओं सी सरसराहट सी आ जाती है ,
क्या है उससे मेरा वास्ता ,वो तो में भी न जान पायी ,
फिर भी,जाने क्यूँ उसकोसोचकर ,
गर्मी की जलती रेत में भी हलकी तरावट सी आ जाती है ,
यूँ तो रोशनी है हर तरफ मेरे
फिर भी,जाने क्यूँ उसको सोचकर ,
दिल के अँधेरों में एक जगमगाहट सी आ जाती है //

©

Language: Hindi
1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप क्या ज़िंदगी को
आप क्या ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*किसान*
*किसान*
Dushyant Kumar
"यही दुनिया है"
Dr. Kishan tandon kranti
विछोह के पल
विछोह के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
डी. के. निवातिया
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जमाना चला गया
जमाना चला गया
Pratibha Pandey
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
मोर
मोर
Manu Vashistha
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
पिछले पन्ने 6
पिछले पन्ने 6
Paras Nath Jha
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
पूर्वार्थ
*चांद नहीं मेरा महबूब*
*चांद नहीं मेरा महबूब*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
★ शुभ-वंदन ★
★ शुभ-वंदन ★
*प्रणय प्रभात*
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...