Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2016 · 1 min read

जाने कैसे

जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी
कागज़ की कश्तियों से खेलते हुए
कब दो वक़्त की रोटियाँ जुटाने में लग गयी
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी

वो बरसात के मौसम में कीचड़ से खेलना
और गर्मियों की रातों में सड़कों पर दौड़ना
घंटों जो क्रिकेट की पिच पर गुजरती थी
आज लैपटॉप के बटनों पर ही अटक गयी
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी

वो स्कूल में टीचर की डांट से ना डरना
किताब के पीछे रखकर कॉमिक्स पढ़ना
आखिरी दिन पढ़कर परीक्षा में बैठना
आज एक प्रमोशन के लालच पर डर गयी
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी

वो कॉलेज की कैंटीन में मस्ती की बातें
फ़ोन पर बातें करते काटी हुई रातें
हाथ में हाथ लिए गुज़ारी हुई बरसातें
आज अपनों से मिलने को तरस गयी
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी

घर की डाइनिंग में माँ के हाथ का खाना
पापा का गुस्सा और मेरा उनको मनाना
वो रात में आइसक्रीम साथ में खाना
आज स्काइप पर बातें करते और
फ़ोन पे तस्वीरें देखते निकल गयी
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी

–प्रतीक

Language: Hindi
438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
Anis Shah
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
Dr. Shailendra Kumar Gupta
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
क़लम से तलवार का काम
क़लम से तलवार का काम
Shekhar Chandra Mitra
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
हैं शामिल
हैं शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
अपनत्वपूर्ण नोक-झोंक और अकड़ भरी बदतमीज़ी में ज़मीन-आसमान का फ़र
अपनत्वपूर्ण नोक-झोंक और अकड़ भरी बदतमीज़ी में ज़मीन-आसमान का फ़र
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-14💐
💐अज्ञात के प्रति-14💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
ईमान से बसर
ईमान से बसर
Satish Srijan
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
Pooja Singh
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
Anil "Aadarsh"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बादल का रौद्र रूप
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...