Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

जाना ही होगा 🙏🙏

जाना ही होगा 🙏🙏
चार कंधों का लिए सहारा
जग छोड़ जाना ही होगा
तन मत न कर मैली ज़रा भी
साफ़ छोड़ चल रूह नगरिया
टी .पी . तरुण

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
आप किसी के बनाए
आप किसी के बनाए
*Author प्रणय प्रभात*
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
Anil Mishra Prahari
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
चंद्रशेखर आजाद (#कुंडलिया)
चंद्रशेखर आजाद (#कुंडलिया)
Ravi Prakash
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
संवेदना का कवि
संवेदना का कवि
Shweta Soni
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
Loading...