Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2022 · 1 min read

जानवर और आदमी में फर्क

जानवर और आदमी में फर्क बुद्धि विवेक का ही है
वाकी निद्रा मैथुन आहार, जानवर भी करते हैं
जानवर आज भी अपनी प्रकृति से चल रहा है
आदमी अपनी प्रकृति पर्यावरण बदल रहा है
आदमी ने सभी जीव जन्तुओं के घरों पर
अतिक्रमण कर लिया है,कई प्रजातियों का
नामोनिशान मिट गया है
आदमी अपने स्वार्थ में सबको मिटा रहा है
लगता है खुद के पैर पर कुल्हाड़ी चला रहा है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
*ऋषि (बाल कविता)*
*ऋषि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
2397.पूर्णिका
2397.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
खोखली बुनियाद
खोखली बुनियाद
Shekhar Chandra Mitra
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
दहलीज के पार 🌷🙏
दहलीज के पार 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सब्र करते करते
सब्र करते करते
Surinder blackpen
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...