Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

जाते हैं संसार से, जब सब मानव छोड़ (कुंडलिया)

जाते हैं संसार से, जब सब मानव छोड़ (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■
जाते हैं संसार से , जब सब मानव छोड़
कैसे फिर रह पाएँगे , हम – तुम बैठे जोड़
हम-तुम बैठे जोड़ , एक दिन होगा जाना
शव अर्थी शमशान , पुराना क्रम रोजाना
कहते रवि कविराय ,मृत्यु सब जन हैं पाते
किसकी रही विभूति ,छोड़ सब जग से जाते
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
विभूति = वैभव, धन-संपत्ति
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता_ : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

641 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
DrLakshman Jha Parimal
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
*Author प्रणय प्रभात*
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
3199.*पूर्णिका*
3199.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
Tarun Singh Pawar
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तन्हा
तन्हा
अमित मिश्र
हया
हया
sushil sarna
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...