Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)

जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
————————————————
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार
राजपुरुष राजा गए ,दुनिया के सरदार
दुनिया के सरदार , अकेले जग से जाते
कौन बंगला कार, साथ कब ले जा पाते
दुनिया की है रीति , सभी मरघट पर आते
मरण किसी का आज, लोग कुछ पीछे जाते
—————————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
SPK Sachin Lodhi
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
💐प्रेम कौतुक-471💐
💐प्रेम कौतुक-471💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
मानवता का
मानवता का
Dr fauzia Naseem shad
अड़बड़ मिठाथे
अड़बड़ मिठाथे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
सत्य और सत्ता
सत्य और सत्ता
विजय कुमार अग्रवाल
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
Surinder blackpen
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...