Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

जाति

ये जमाना है,
जिसको सिखाना है,
जाति तो देखो,
लेकिन खुद की सोच मत देखो,
हम लोगों को जज करते हैं,
क्या हम खुद अच्छे हैं?
क्या बिलकुल सच्चे है?
आगे बढ़ना है ,
तो सोच आगे बढ़नी होगी|
मेरा ये दावा है,
वो जाती छोटी है,
लेकिन क्या हमारी सोच से ज्यादा छोटी है|
वो हिंदू नहीं है,
ऐसे किसी से भी बात नहीं करनी,
लेकिन मुझे फरियाद करनी है,
जमाना बदल रहा है,
अपनी सोच को बदलो,
वरना जमाना तुम्हें पीछे छोड़ देगा,
और खुद आगे बढ़ेगा,
क्या एक ही सोच से तुम पूरी दुनिया चला सकते हो,
या फिर एक ही कपड़ो से सारे मौसम बीता सक्ते हो,
कैसी ये सोच है,
जिसकी ना कोई खोज है,
केसा जमाना ,
जहाँ भगवान की भी जाति देखते हैं,
और खुद को भगवान समझते हैं,
भगवान ने तो जाति नहीं बनाई ,
पैसा तो उनके पास भी बहुत था,
तुम किस घमंड में चूर हो,
कोन से गुरुर में हो,
सबको अपनी इज्जत प्यारी है,
सबकी अलग-अलग ज़िम्मेदारी है,
तुम किसी का घर नहीं चलते हो,
तो उसको खुद से नीचा कैसे बता सकता हो,
जाति बदलने से कोई जानवर नहीं बन जाता
या फिर तुम भगवान नहीं बन जाते ,
जमाने वो भी थे ,
जमाने ये भी हैं,
भगवान ने जाति नहीं बनाई थी,
पहले भी बनने वाले तुम ही थे ,
और आज भी तुम ही हो|

5 Likes · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Oh, what to do?
Oh, what to do?
Natasha Stephen
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr .Shweta sood 'Madhu'
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
बह्र- 1222 1222 1222 1222 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन काफ़िया - सारा रदीफ़ - है
बह्र- 1222 1222 1222 1222 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन काफ़िया - सारा रदीफ़ - है
Neelam Sharma
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
Loading...