Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

जाति आज भी जिंदा है…

जाति आज भी जिंदा है
भारत भूमि के कण कण में,
शोषण के समय
अत्याचार होते क्षण में ।

उन्नाव अन्याय के समय,
सत्ता में बैठे उस पद में,
पानी घड़ा से पीने को लेकर
प्यासे पिटते बच्चे के मन में ।

घोड़ी चढ़ते एस एस पी
उसको रोकते लोगों के मन में,
मूछों में ताव लगाए जितेंद्र
गंदगी उठे दरिंदों के तन में ।

बिटिया जब आगे बढ़ती हैं
गुर्गों के मन मचलते हैं,
लाख कोशिश हो बचने की
घटना हाथरस जैसी होती हैं ।

जाति देख वे देते शिक्षा
घृणा भी उठती उनके मन में,
जाति आज भी जिंदा है
भारतभूमि के कण कण में ।

देख जाति पशु से बिठाए विधायक
पीते वे छाछ ग्लासन में,
उन नेताओं का क्या होगा
जो रहते जाति के घर्षण में।

जाति अगर तू खो जाती
हो जाता भला निर्धन जन में,
जाति आज भी जिंदा है
भारतभूमि के कण कण में।

आर एस आघात
31/10/2023

2 Likes · 1 Comment · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
Priya princess panwar
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
Loading...