Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 1 min read

जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान( गीत)पोस्ट २८

जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान
****************************गीत**********

तुम सोये तो भाग्य सो गया ,बहुत हो चुका है अपमान।
यह सोने क् समय नहीं है,जागो- जागो हिंदुस्तान ।।

जैसे दिनकर के चलने से होता आया दिव्य प्रकाश ।
चलते रहने से समाज का होता आया नित्य विकाश ।
अत: बढ़ो अब आगे- आगे करो जगत् का तुम कल्याण
यह सोने का समय नहीं है,जागो – जागो हिंदुस्तान ।।

मातृभूमि का आराधन हो, बढ़े सैन्यबल, कोषागार ।
भाषाएँ, संस्कृति हों उन्नत ,अर्थ- व्यवस्था और व्यापार
हो अनुशासन तथा सुशासन , विकसित भारत का निर्माण।
यह सोने का समय नहीं है, जाजागो- जागो हिंदुस्तान ।।

भारतमें घुसपैठ बंद हो, यह नष्ट हो आतंकवाद।आतंकवाद।
बहुत समय हो गया नष्ट हो है , व्यर्थव्यर्थ कुतर्कयह वादविवाद ।
अब जवाब देना ही होगा , सीमाओं पर हो प्रस्थान ।
यह सोने का समय नहीं है, जागो – जागो मेरे हिंदुस्तान।।
—– जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
नया साल सबको मुबारक
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
4) “एक और मौक़ा”
4) “एक और मौक़ा”
Sapna Arora
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
23 मार्च
23 मार्च
Shekhar Chandra Mitra
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
अंधभक्ति
अंधभक्ति
मनोज कर्ण
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
Ravi Prakash
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
Kumar lalit
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
Loading...