Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

ज़िन्दगी रोज़ मेरी ऐसे बदलती है यहाँ

ज़िन्दगी रोज़ मेरी ऐसे बदलती है यहाँ
जैसे इक शाम किसी रात में ढलती है यहाँ

ओढ़कर ख़ुशियाँ मेरे दर्द भी कुछ यूँ निकले
जैसे दुल्हन कोई सज धज के निकलती है यहाँ

मेरी आँखों से मेरे दिल में कोई यूँ उतरा
जैसे शीशे पे कोई बूँद फिसलती है यहाँ

एक हसरत जिसे तुमने न हवा दी कोई
मेरी हर साँस में हसरत वही पलती है यहाँ

तू ने जो प्यार की इक शम्अ जलाई थी कभी
आज तक शम्अ वही प्यार की जलती है यहाँ

—शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
5 Likes · 1 Comment · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
मुस्कुराकर देखिए /
मुस्कुराकर देखिए /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
"रहस्यमयी"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*Author प्रणय प्रभात*
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
DrLakshman Jha Parimal
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
Loading...