Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2023 · 1 min read

ज़िन्दगी इतना तो

जीना चाहता है कोई उसको भी ।
ज़िन्दगी इतना तो समझ लेती ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
18 Likes · 347 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेफिक्र अंदाज
बेफिक्र अंदाज
SHAMA PARVEEN
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
Ms.Ankit Halke jha
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध जी की करुणा हुई तो
बुद्ध जी की करुणा हुई तो
Buddha Prakash
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हथेली पर समय-रेखा, लिखा कर लोग आते हैं (मुक्तक)
हथेली पर समय-रेखा, लिखा कर लोग आते हैं (मुक्तक)
Ravi Prakash
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
ज़िंदगी का सफ़र
ज़िंदगी का सफ़र
Dr fauzia Naseem shad
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
. *प्रगीत*
. *प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-309💐
💐प्रेम कौतुक-309💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
Loading...