Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

ज़िंदगी

अगर ज़िदगी आपकी उम्मीदों
पर खरा नहीं उतर रही है तो
आप ज़िंदगी की उम्मीदों पर
खरा उतर कर दिखा सकते हैं,
क्योंकि ज़िंदगी भी आपसे वैसी
ही उम्मीदें रखती है जैसी कि
आप उससे रखते हैं ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
8 Likes · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
ज़िंदगी का फ़लसफ़ा
ज़िंदगी का फ़लसफ़ा
Dr. Rajeev Jain
कविता
कविता
Shiv yadav
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
सत्य कुमार प्रेमी
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
वफ़ा और बेवफाई
वफ़ा और बेवफाई
हिमांशु Kulshrestha
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...