Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

तेरी याद

ज़िंदगी जीने नहीं देती,
यादें भूलने नही देती,

क्या पता

किस मोड़ पर मिल जाए दुबारा,
इसलिए, इंतजार कर जीए जा रहे है…

Language: Hindi
1 Like · 234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
मेघों का मेला लगा,
मेघों का मेला लगा,
sushil sarna
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
शेखर सिंह
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
*सागर में ही है सदा , आता भीषण ज्वार (कुंडलिया)*
*सागर में ही है सदा , आता भीषण ज्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
💐अज्ञात के प्रति-114💐
💐अज्ञात के प्रति-114💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय की नाड़ी पर
समय की नाड़ी पर
*Author प्रणय प्रभात*
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
तितली
तितली
Manu Vashistha
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
Loading...