Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2023 · 1 min read

ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु…या…पा में संलिप्त

ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु…या…पा में संलिप्त रहने वालों का कहीं न कहीं आपको साथ पाना ही पड़ेगा, क्योंकि ज़िंदगी का मूल और अंतिम फलसफा यही रहना है – जाहि विधि राखे चुति… न, ताहि विधि रहिए!

मानव–ज़िंदगी महज़ वसूलों और नैतिकता से नहीं चलती।

1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
सम्मान
सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आईना अब भी मुझसे
आईना अब भी मुझसे
Satish Srijan
7. तेरी याद
7. तेरी याद
Rajeev Dutta
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
श्याम सिंह बिष्ट
"धोखा"
Dr. Kishan tandon kranti
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
Ravi Prakash
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-298💐
💐प्रेम कौतुक-298💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
फांसी के तख्ते से
फांसी के तख्ते से
Shekhar Chandra Mitra
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...