Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफर

ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफरु
धूप में भी मिला कब जहां में शजर

दर्द कहते तो कहते किसे हम यहाँ
कर लिया हमने पत्थर का अपना जिगर

आँधियाँ जलजले क्या नहीं था सहा
रोज़ हम पर थे बरपे कहर पर कहर

हाथ की दो लकीरें न वश में रहें
एक किस्मत तो दूजी है अपनी उमर

मौज मस्ती में सब अपनी डूबे हुए
है किसे इस जहां में भी किसकी खबर

लिख दिया जो खुदा ने है उतना ही संग
कौन किसका रहा है सदा हमसफर

गिरगिटों की तरह रंग लेते बदल
पर न आया हमें दोस्तों ये हुनर

कट गयी उम्र हँसते हुए निर्मला
साथ मेरे था प्यारा मेरा हमसफ़र

131 Views
You may also like:
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
पिता की याद
Meenakshi Nagar
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का दर्द
Nitu Sah
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
बेरूखी
Anamika Singh
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...