Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफर

ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफरु
धूप में भी मिला कब जहां में शजर

दर्द कहते तो कहते किसे हम यहाँ
कर लिया हमने पत्थर का अपना जिगर

आँधियाँ जलजले क्या नहीं था सहा
रोज़ हम पर थे बरपे कहर पर कहर

हाथ की दो लकीरें न वश में रहें
एक किस्मत तो दूजी है अपनी उमर

मौज मस्ती में सब अपनी डूबे हुए
है किसे इस जहां में भी किसकी खबर

लिख दिया जो खुदा ने है उतना ही संग
कौन किसका रहा है सदा हमसफर

गिरगिटों की तरह रंग लेते बदल
पर न आया हमें दोस्तों ये हुनर

कट गयी उम्र हँसते हुए निर्मला
साथ मेरे था प्यारा मेरा हमसफ़र

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
గురువు కు వందనం.
గురువు కు వందనం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बन्दे   तेरी   बन्दगी  ,कौन   करेगा   यार ।
बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
sushil sarna
■ आज का सवाल
■ आज का सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-113💐
💐अज्ञात के प्रति-113💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
हम
हम
Ankit Kumar
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
क्या डरना?
क्या डरना?
Shekhar Chandra Mitra
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
Loading...