Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

* ज़ालिम सनम *

एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त
मिटा कर नाम अपना
मैं तेरा लिख रहा था ।
कहीं इक गूंज गूंजी
तू ये क्यों कर रहा था ।
बड़ी तफ़सील से मैंने
कहा उससे, कि अब,
मुझमें मेरा कुछ भी ।
रहा ना, लूट कर वो
जालिम जब से मिरा ।
चैन है ले गया, न मिलता है
न दिखता है , न आता है ।
न ही बुलाता है , तोड़ कर
रिश्ता कुछ इस कदर
वो शैतान मुझसे गया है ।

Language: Hindi
232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
"गारा"
Dr. Kishan tandon kranti
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
** बहुत दूर **
** बहुत दूर **
surenderpal vaidya
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
खुद को खोल कर रखने की आदत है ।
खुद को खोल कर रखने की आदत है ।
Ashwini sharma
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr .Shweta sood 'Madhu'
शीर्षक:-मित्र वही है
शीर्षक:-मित्र वही है
राधेश्याम " रागी "
Love Is The Reason Behind
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
अनिल कुमार
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
धर्म निरपेक्षता
धर्म निरपेक्षता
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
VINOD CHAUHAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
🙅आज का अनुभव🙅
🙅आज का अनुभव🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...