Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

ज़रूरत के तकाज़ो

ज़रूरत के तकाज़ो में
ज़रूरत अपनी-अपनी थी ।
कोई यादों से ख़ाली था
कोई यादों में बाकी था ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
"सुकून"
Dr. Kishan tandon kranti
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जल्दी-जल्दी  बीत   जा, ओ  अंधेरी  रात।
जल्दी-जल्दी बीत जा, ओ अंधेरी रात।
गुमनाम 'बाबा'
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
शेखर सिंह
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
#एक_सबक़-
#एक_सबक़-
*Author प्रणय प्रभात*
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
Work hard and be determined
Work hard and be determined
Sakshi Tripathi
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
Bidyadhar Mantry
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
Loading...