Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है

ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
तब तब वक़्त तैरना सीखा ही देता है
………,

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
■ मंगलमय हो अष्टमी
■ मंगलमय हो अष्टमी
*Author प्रणय प्रभात*
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गजल
गजल
Punam Pande
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
जीवन
जीवन
Mangilal 713
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
.        ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
. ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
Sûrëkhâ
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...