Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2017 · 1 min read

जहॉ पसरा हो मेरा नाम

आओ सौंप दूं तुम्हे अपनी हसरते अपने अरमान अपने सपने अपना मकाम

बस तुम लिख दो अपनी हथेली कुछ ऐसा पैगाम
जहॉ पसरा हो सिर्फ मेरा नाम

मेरी चाहते .मेरी इनायते ..मेरे जज्बात .मेरे खयालात
सब तुम्हारे नाम करती हूं
अपनी मुहब्बत का ऐलान सरेआम करती हूं

बस तुम अपनी नजरे इनायत कर लो
अपने ख्वाबों मे मेरी तस्वीर भर लो
तमाम खुशियों से मेरी तकदीर भर दो …
बेपनाह मुहब्बत की तामील कर दो .

Language: Hindi
295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
समय
समय
नूरफातिमा खातून नूरी
अव्दय
अव्दय
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
23/101.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/101.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
विनती
विनती
Dr. Upasana Pandey
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...