Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2023 · 1 min read

जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग पर गीत-

मन वांछित फल सबने पाए शिव शक्ति गुणगान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जय जय नागेश्वर, जय जय नागेश्वर।

ज्योतिर्लिंग नागेश्वर कैसे इस धरती पर आया।
किंवदंतियों वेद पुराणों ने सबको समझाया।
भीम ने दूध मलाई की नदिया देखी चकराये।
बीच में देख स्वयंभू शिवलिंग मन ही मन हर्षाए।
इसी जगह पर दर्शन पाते ज्योतिर्लिंग महान के।….1

एक बार भगवान कृष्ण ने शिव का जाप किया था।
विधि विधान से भोले का रुद्राभिषेक किया था।
ये था वो गुजरात द्वारिका तट समुद्र के तीरे।
यही बना मंदिर नागेश्वर जी का धीरे धीरे।
नागराज जो बसे गले में नीलकंठ भगवान के।….2

दारूका राक्षसी थी जिसने पार्वती को मनाया।
माता पार्वती से उसने इक सुंदर बन पाया।
उसका पति दारुक था एक राक्षस अत्याचारी।
यज्ञ अनुष्ठानों में वो उत्पात मचाता भारी।
साधु संत ब्राह्मण बैरागी दुश्मन थे नादान के।….3

परम भक्त भोले के सुप्रिय को दारुक ने पकड़ा।
कारागार में डाल दिया और जंजीरों में जकड़ा।
बर्बर अत्याचार किए सुप्रिय को डिगा न पाया।
भोले प्रकटे सुप्रिय को राक्षस से मुक्त कराया।
धन्य हुए सब दर्शन पाकर नागेश्वर बलवान के।…4

प्रभु नागेश्वर के दर्शन जो जीवन में कर पाया।
काम क्रोध मद मोह लोभ की पड़े न उस पर छाया।
कष्टों से जीवन में फिर वो कभी नहीं घबराता।
विषधर का विष भी उसको फिर अमृतमय हो जाता।
इसीलिए सब दर्शन कर लो नागराज भगवान के।…5

………✍️ सत्य कुमार ‘प्रेमी’

Language: Hindi
Tag: गीत
226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंजिल एक है
मंजिल एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
3097.*पूर्णिका*
3097.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मक्खन बाजी
मक्खन बाजी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
Er.Navaneet R Shandily
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
"आत्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम
प्रेम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
💐अज्ञात के प्रति-83💐
💐अज्ञात के प्रति-83💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
Ravi Prakash
Loading...