Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

जवान हिन्द के

जवान हिन्द के
**************
हिन्द के जवान हो
वीर तुम महान हो
राष्ट्र को आतंक से
आज अब बचाइये।
वीरता अदम्य है
वीर आप धन्ध है
शत्रु के शीश को
काटते ही जाइये।
राष्ट्र यह अखण्ड है
तेज भी प्रचण्ड है
राष्ट्र के सम्मान में
राष्ट्र गान गाइये।
राष्ट्र का न खण्ड हो
अस्मिता न भंग हो
राष्ट्रद्रोहीयों को अब
मार कर भगाइये।
सर्वधर्म ध्वजा यहाँ
फहरे ये वो जहां
मिलजुल कर सभी
अमन व चैन लाइये।
जय जय माँ भारती
चलो करें आरती
राष्ट्र के सम्मान में
शीश अपना झुकाइये।
……
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
काल्पनिक अभिलाषाओं में, समय व्यर्थ में चला गया
काल्पनिक अभिलाषाओं में, समय व्यर्थ में चला गया
Er.Navaneet R Shandily
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
Sonam Puneet Dubey
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
"मूलमंत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
" कभी नहीं साथ छोड़ेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2454.पूर्णिका
2454.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हिंदी दोहा-कालनेमि
हिंदी दोहा-कालनेमि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मौसम
मौसम
Monika Verma
बहुत संभाल कर रखी चीजें
बहुत संभाल कर रखी चीजें
Dheerja Sharma
भुला बैठे हैं अब ,तक़दीर  के ज़ालिम थपेड़ों को,
भुला बैठे हैं अब ,तक़दीर के ज़ालिम थपेड़ों को,
Neelofar Khan
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
gurudeenverma198
"" *आओ गीता पढ़ें* ""
सुनीलानंद महंत
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
हँसी!
हँसी!
कविता झा ‘गीत’
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
Sunil Maheshwari
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*प्रणय प्रभात*
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
Loading...