Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2016 · 1 min read

जवानों को शत शत नमन

हैवानों के देश में ,विष की फलती बेल
भूल तभी अपना खुदा ,खेलें खूनी खेल

करता है जो पाक तू, सदा पीठ पर वार
कपटी तेरी सोच है, नीच बड़ा परिवार

ओढ़ तिरंगा सो रहे ,भारत माँ के वीर
करते शत शत हम नमन भर आँखों में नीर

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Like · 822 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
जो किसी से
जो किसी से
Dr fauzia Naseem shad
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
कातिल है तू मेरे इश्क का / लवकुश यादव
कातिल है तू मेरे इश्क का / लवकुश यादव"अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
पारख पूर्ण प्रणेता
पारख पूर्ण प्रणेता
प्रेमदास वसु सुरेखा
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
"सृष्टि निहित माँ शब्द में,
*Author प्रणय प्रभात*
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
Manisha Manjari
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
Loading...