Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

जल बचाओ, ना बहाओ।

जिस धरा मे बसते है जीवन,
उस जीवन का एक ही आधार,
जल ही जीवन, अमृत जीवन का,
इसको बचाना महत्वपूर्ण है सदा।

बिना जल के प्यास नहीं बुझती,
प्राण सूखते और हरियाली मुरझाती,
सभी प्राणियों को चाहिए जल,
जल बचाओ , ना बहाओ।

सागर नदिया झील और तालाब,
श्रोत सभी है दूषित ना करना,
कूड़ा कचरा इसमें में ना बहाओ,
आज जल है तभी तो जीवन है।

छोटी–छोटी कोशिशें करोगे,
ध्यान दोगे और महत्व समझोगे,
जल को जरूर तुम बचा सकोगे,
अपना भविष्य आगे बढ़ा पाओगे।

रचनाकार –
बुध्द प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
प्यार मेरा तू ही तो है।
प्यार मेरा तू ही तो है।
Buddha Prakash
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
युवा
युवा
Akshay patel
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
2687.*पूर्णिका*
2687.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
Mathematics Introduction .
Mathematics Introduction .
Nishant prakhar
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
Jyoti Khari
Loading...