Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।

जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
प्रतिभा दुरोपयोग का,सबक रखें सब याद ।।

वरदानी थी होलिका, जला सके नहि आग।
दुष्ट कर्म से जल गई , होली खेली फाग।।

जो रहता मर्याद में, फलता है वरदान ।
वरना उल्टा नाश ही,होली देती ज्ञान ।।

हिरण्यकशिपु गर्व किया, धन बल का अभिमान ।
असुर ज्ञान असफल हुआ,प्राण हरे भगवान ।।

प्रतिभा बुद्धि ज्ञान सभी, जग हित आवे काम।
तभी देव वरदान का, मिलता लाभ तमाम ।।

1 Like · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajesh Kumar Kaurav
View all
You may also like:
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
Buddha Prakash
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
कवि रमेशराज
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD CHAUHAN
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
#एक_स्तुति
#एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
जीवन भर मर मर जोड़ा
जीवन भर मर मर जोड़ा
Dheerja Sharma
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
*यार के पैर  जहाँ पर वहाँ  जन्नत है*
*यार के पैर जहाँ पर वहाँ जन्नत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारी तुम्हारी मुलाकात
हमारी तुम्हारी मुलाकात
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
Loading...