Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

“जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना

“जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
बिना भगवान गुन अपना नहीं पूजा हुआ करती”

आर.एस. ‘प्रीतम’

2 Likes · 2 Comments · 628 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
हमारी नई दुनिया
हमारी नई दुनिया
Bindesh kumar jha
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
#सामयिक_कविता
#सामयिक_कविता
*प्रणय प्रभात*
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
प्यार के ढाई अक्षर
प्यार के ढाई अक्षर
Juhi Grover
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
नवगीत : मौन
नवगीत : मौन
Sushila joshi
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
डर लगता है।
डर लगता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
Harminder Kaur
आँसू बरसे उस तरफ, इधर शुष्क थे नेत्र।
आँसू बरसे उस तरफ, इधर शुष्क थे नेत्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोहब्बत।
मोहब्बत।
Taj Mohammad
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"हंस"
Dr. Kishan tandon kranti
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
Loading...