Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

जलपरी

सच में होती जलपरी,या होती है ख्वाब।
लेकिन इसकी बात तो,करते कई किताब।।

दंतकथा में जलपरी,काल्पित जलीय जीव।
रूप लावण्य से भरा,है सौन्दर्य अतीव।।

कलाबाजियों से भरी,अद्भुत आकर्षक रूप।
बीच भँवर में तैरती,करतब करें अनूप।।

जल में रहती जलपरी,वस्त्र हीन है देह।
लेकिन जादू से भरा, उसका निर्मल गेह।।

होठ गुलाबी पंखुड़ी,लंबे-लंबे केश।
कई शक्तियों से भरी,मोहक अदा विशेष।।

लावण्य प्रभा माधुरी,सदा सिन्धु में लीन।
सिर से धड़ तक मानवी,दुम होती है मीन।।

जादूगरनी अप्सरा,नीलम- से दो नैन।
पावन स्नेहिल मद भरी,सहज सुरीले बैन।।

मधुर सुरों में जलपरी,गाती धुन में गान।
इंसा हो या देवता,भटके सबका ध्यान।।

पौराणिक हर ग्रंथ में,जलपरियों का साक्ष्य।
बहुत अनोखी साहसी,सर्वकला में दाक्ष्य।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
लौट कर फिर से
लौट कर फिर से
Dr fauzia Naseem shad
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
प्रेम का चौथा नेत्र
प्रेम का चौथा नेत्र
Awadhesh Singh
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
ज़माना हक़ीक़त
ज़माना हक़ीक़त
Vaishaligoel
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
2586.पूर्णिका
2586.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक मैसेज सुबह करते है
एक मैसेज सुबह करते है
शेखर सिंह
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"दीपावाली का फटाका"
Radhakishan R. Mundhra
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
हदें
हदें
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...