Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2018 · 1 min read

जरूरत

खुशियाँ साथ साथ चलती रहीं ।
रंजिशें बार बार बदलती रहीं ।

मुड़ते रहे साथ जरूरत के ,
जरूरतें वक़्त से बदलती रहीं ।

घुटते रहे अरमान भी कभी ,
आरजू कभी खिलती रहीं ।

फैला रहा एक दामन सा ,
मसर्रत वहाँ मचलती रही ।

लौटा नही गुजर वक़्त कभी ,
गुजरे वक़्त को जरूरत न रही ।

उठीं निगाहें फिर एक उम्मीद से ,
आते वक़्त को मुझसे जरूरत रही ।

गाता “निश्चल” नज़्म यूँ ही अक़्सर ,
नज़्म को मेरी जरूरत कभी न रही ।

….. विवेक दुबे”निश्चल”@…

335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
" हवाएं तेज़ चलीं , और घर गिरा के थमी ,
Neelofar Khan
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
Falling Out Of Love
Falling Out Of Love
Vedha Singh
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
कृष्णकांत गुर्जर
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
नव वर्ष गीत
नव वर्ष गीत
Dr. Rajeev Jain
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कांच के जैसे टूट जाते हैं रिश्ते,
कांच के जैसे टूट जाते हैं रिश्ते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...