Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

जय हो कल्याणी माँ 🙏

जय जय हो कल्याणी माँ
🌷🌹🙏🙏🌷🌹
वंदना करें घर कल्याणी मां की
बनते इनसे परिवार मुक्ति द्वार

जय जय हो घर कल्याणी मां
घर घर पूजा होती तेरी माता

आप हैं स्वादिष्ट भोजन दाता
आप के हाथों से भोजन पाने

ललायित भारत भाग्य विधाता
माता के प्यार मिले खाने से बड़ा

ना दूजा स्वादिष्ट पूजा की थाली
परमब्रह्म परमेश्वर भी ललायित

मां के छप्पन भोग की थाली
थके मांदे हारे जीत सुखी दुःखी

तेरा परिवार निज माता के पास
आलस्य छूमंतर हो जाते क्षण में

जय जय हो घर छुमंतरी माता
जय जय हो घर रक्षन की माता

व्यथा की निज तड़प में माता
जब तक निज हाथों परिवार को

कोर कोर दाना पानी नहीं देते
तब तक मन व्याकुलता की मां

जय जय हो घर कल्याणी मां
आपकी ममता दया से परिवार

एकता स्नेह का जग एकत्री मां
जिस घर मां बहनों की पूजा हो

कुटिया स्वर्ग बदलते देर नलगती
काली छाया छाता घर परिवारों

दीप ज्योत धूप नवैध से आरती
मन से विनती दुआ सलामती की

मांग रही परिवार सुख की मां
जननी जगत कल्याणी आरती

उतारती सर्वजनअभिमानी ज्ञानी
जय हो जय घर पालनहारी मां ।
☘️🍀🌷💐🙏🙏☘️🍀
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
"बिल्ली कहती म्याऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
3054.*पूर्णिका*
3054.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
■ दोमुंहा-सांप।।
■ दोमुंहा-सांप।।
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत
फितरत
kavita verma
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-405💐
💐प्रेम कौतुक-405💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
*सुख या खुशी*
*सुख या खुशी*
Shashi kala vyas
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुलामी की ट्रेनिंग
गुलामी की ट्रेनिंग
Shekhar Chandra Mitra
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अगर फैसला मैं यह कर लूं
अगर फैसला मैं यह कर लूं
gurudeenverma198
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
Loading...