Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

जय हिन्द , वन्दे मातरम्

कोई भी पंथ हो अपना कोई भी हो धरम
सभी मिलकर कहो जय हिन्द वन्दे मातरम्

वतन पर जो हुए कुर्बान उनकी सोचिए
शहीदों ने वतन पर प्राण अपने क्यों दिए
मरे आज़ाद और अशफ़ाक उल्ला खान क्यों
भगत सिंह और सावरकर लड़े किसके लिए

बड़ी मुश्किल से गोरों से हुए आज़ाद हम
सभी मिलकर कहो जय हिन्द वन्दे मातरम्

लगाकर भाल पर मिट्टी वतन को मान दें
ज़रूरत आ पड़े तो देश पर हम जान दें
हमारे धर्म से बढ़कर हमारा देश है
इसे हम धर्मग्रंथों से अधिक सम्मान दें

कसम खाएं न होने देंगे इसका मान कम
सभी मिलकर कहो जय हिन्द वन्दे मातरम्

कभी भी भूलकर हमसे न ऐसा काम हो
कि जिससे देश की छवि विश्व में बदनाम हो
कहीं जाएं मगर दिल में ललक हो एक ही
कि कैसे देश का दुनिया में ऊंचा नाम हो

हमारे देशहित में हो हमारा हर क़दम
सभी मिलकर कहो जय हिन्द वन्दे मातरम्

हमारी एकता का शोर अब चहुं ओर हो
हमारे हाथ में अब एकता की डोर हो
करें हरगिज़ न कोई काम हम ऐसा कभी
कि जिससे एकता की डोर ये कमज़ोर हो

हमें इस देश के परचम , तिरंगे की कसम
सभी मिलकर कहो जय हिन्द वन्दे मातरम्

—शिवकुमार बिलगरामी

4 Likes · 2 Comments · 154 Views
You may also like:
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू अहम होता।
Taj Mohammad
लबों से बोलना बेकार है।
Taj Mohammad
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
जिंदगी की अभिलाषा
Dr.Alpa Amin
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस तुम ही तुम हो।
Taj Mohammad
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
ख्वाब
Harshvardhan "आवारा"
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
सच एक दिन
gurudeenverma198
चौदह अगस्त: विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस
Ravi Prakash
पापा हमारे..
Dr.Alpa Amin
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
*एक शेर*
Ravi Prakash
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema Tuhaina
राज का अंश रोमी
Dr Meenu Poonia
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
मालूम था।
Taj Mohammad
Loading...