Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

जय हिंदी जय हिंदी नारा हम सब खूब लगाते हैं

जय हिंदी जय हिंदी नारा हम सब खूब लगाते हैं
बड़े बड़े आयोजन करके हिंदी दिवस मनाते हैं

सच्चे ज्ञानी वही यहाँ जो फट फट बोलें अंग्रेजी
हिंदी में जो बात करें वे अब गँवार कहलाते हैं

चीख चीख कर जो कहते हैं हिंदी का विस्तार करो
कान्वेंट में पर वो अपने बच्चों को पढ़वाते हैं

कहना है अपना बस इतना अंग्रेजी है ब्रेड बटर
मन संतुष्ट तभी होता जब सब्जी रोटी खाते हैं

पढ़ना है तो पढ़ो इसे सब जैसे एक विषय इंग्लिश
क्यों हिंदी के बदले में हम अंग्रेजी अपनाते हैं

बच्चे बच्चे को हिंदी का पाठ हमें सिखलाना अब
लेकर ये संकल्प चलो हम हिंदी दिवस मनाते हैं

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1 Comment · 505 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
दहलीज के पार 🌷🙏
दहलीज के पार 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
यह मन
यह मन
gurudeenverma198
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
*सत्य*
*सत्य*
Shashi kala vyas
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
2728.*पूर्णिका*
2728.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
सिपाही
सिपाही
Buddha Prakash
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मत बुझा मुहब्बत के दिए जलने दे
मत बुझा मुहब्बत के दिए जलने दे
shabina. Naaz
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
श्याम बैरागी : एक आशुकवि अरण्य से जन-जन, फिर सिने-रत्न तक पहुंच
श्याम बैरागी : एक आशुकवि अरण्य से जन-जन, फिर सिने-रत्न तक पहुंच
Shyam Hardaha
प्रकृति प्रेमी
प्रकृति प्रेमी
Ankita Patel
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
भारत और मीडिया
भारत और मीडिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बड़े गौर से....
बड़े गौर से....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*Author प्रणय प्रभात*
भूल जाते हैं मौत को कैसे
भूल जाते हैं मौत को कैसे
Dr fauzia Naseem shad
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...