Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 18, 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: भीमसेनमद हरनेकी लीला की:: जितेन्द्रकमल आनंद ( पोस्ट३३)

जयबालाजी:: ताटंक छंद क्रमॉक– ३३

चक्र सुदर्शन ,विहग गरुण जब फूले थे बल में बाला ।
कृष्ण- इंगितों पर लीला कर , अहम् हरा पलमें बाला !
रूप धरा हरि ने रघुवर का ,बनी सत्यभामा , सीता ।
किये कंत के चरण- स्पर्श , तज भामा – पद तुमने, बाला !!
—– जितेन्द्र कमल आनंद

81 Views
You may also like:
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
# पिता ...
Chinta netam " मन "
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुंदर बाग़
DESH RAJ
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
Loading...