Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

जयबालाजी :: परिमोहन की, परिशोधनकी करें बात:: जितेंद्रकमलआनंद ( ४५)

ताटंक छंद क्रमॉक ४६–

परिमोहनकी, परिशोधन की, करें बात सब परहित की ।
पराभक्ति जब परिवर्तन की करे बात ,खोले खिड़की ।
कहती है वह नया सबेरा, देखो अब आने वाला ।
दर्शयिता वह होगा पथ का ,अंधकार जाने वाला ।।

—— जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
मेरे मुक्तक
मेरे मुक्तक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
संविधान /
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मंजिल-ए-मोहब्बत
मंजिल-ए-मोहब्बत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*आते हैं भगवान 【भक्ति गीत】*
*आते हैं भगवान 【भक्ति गीत】*
Ravi Prakash
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
नजरअंदाज करना तो उनकी फितरत थी----
नजरअंदाज करना तो उनकी फितरत थी----
सुनील कुमार
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
#पर्व_का_संदेश-
#पर्व_का_संदेश-
*Author प्रणय प्रभात*
दिखती  है  व्यवहार  में ,ये बात बहुत स्पष्ट
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
गद्दार
गद्दार
Shekhar Chandra Mitra
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
पूर्वार्थ
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सीरत
सीरत
Shutisha Rajput
सोच समझकर कीजिए,
सोच समझकर कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...