Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: : निष्कामी हो पूर्ण शॉति मन यन्त्र योग का :: जितेन्द्रकमल आनंद ( ३९)

निष्कामी हो पूर्ण शांत मन यंत्र योग का बन जाता ।
करे राम का दर्शन भावन योगी बनकर हर्षाता ।
मिले तन्त्र तन का यदि सम्बल| तो मृदु उर वीणा वाला
हो जाता झंकृत आनंदित , मंत्र गान कर ,” जयबाला”!

—–+ जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
श्याम सिंह बिष्ट
❤बिना मतलब के जो बात करते है
❤बिना मतलब के जो बात करते है
Satyaveer vaishnav
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद (कुंडलिया)*
*प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोर
मोर
Manu Vashistha
मौत का क्या भरोसा
मौत का क्या भरोसा
Ram Krishan Rastogi
DR arun कुमार shastri
DR arun कुमार shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
अब तू किसे दोष देती है
अब तू किसे दोष देती है
gurudeenverma198
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
कोशिश पर लिखे अशआर
कोशिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
Loading...