Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

जमानत

जमानत
१२२ १२२ १२२ १२
मुहब्बत इनायत शराफ़त लिखूँ ।
इजाज़त कयामत नज़ाकत लिखूँ ।
नकाबिल मुसाफिर दिवाने सखे ,
नतीजा नजाफत ज़ियारत लिखूँ ।
फरियाद फितरत उनकी नज़र का,
खजालत नहीं क्या न ताक़त लिखूँ ।
बग़ावत बिगुल बदनसीबी हुई ,
मदन प्रेम कैसी कहावत लिखूँ ।
परीवस पसीना बहाते रहे ,
अमानत तस्व्वुर जमानत लिखूँ ।
=======================राजकिशोर मिश्र ‘राज’ ‘प्रताप गढ़ी

Language: Hindi
396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYAA
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
Manisha Manjari
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यादें
यादें
Versha Varshney
💐💐उनके दिल में...................💐💐
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ समयोचित सलाह
■ समयोचित सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
मिलना है तुमसे
मिलना है तुमसे
Rashmi Sanjay
Loading...