Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2022 · 1 min read

जब हम छोटे से बच्चे थे।

जब हम छोटे से बच्चे थे।
बिना समझ के कुछ कच्चे थे।
पल-पल झूठ बहानेबाजी-
फिर भी हम दिल के सच्चे थे।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 2 Comments · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
■आज का #दोहा।।
■आज का #दोहा।।
*Author प्रणय प्रभात*
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
एहसास दिला देगा
एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
बदल जाओ या बदलना सीखो
बदल जाओ या बदलना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
सत्य
सत्य
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
कब तक
कब तक
आर एस आघात
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Nupur Pathak
*बगिया जोखीराम में श्री राम सत्संग भवन का निर्माण : श्री राजेंद्र जायसवाल जी का
*बगिया जोखीराम में श्री राम सत्संग भवन का निर्माण : श्री राजेंद्र जायसवाल जी का
Ravi Prakash
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
"किसान"
Slok maurya "umang"
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
Loading...