Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2017 · 1 min read

जब हम छोटे-छोटे बच्चे थे।

सभी दोस्तों को बाल दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ
????
चलो फिर से,
उन लम्हों को चुनते हैं।
जब हम छोटे-छोटे बच्चे थे।
हम साथ साथ में लड़ते झगड़ते थे।
हम साथ में हँसते खेलते थे।।
इन छोटे-छोटे आँखों में,
मासुम से सपने पलते थे।
चलो……………..।
मम्मी की प्यार,
पापा का डाँट,
हम साथ-साथ में पाते थें।
जब एक दूजे की गलती को,
चुपचाप छुपाया करते थे।
चलो…………….।
कभी नराजगी तो,
कभी एक दूजे पर
प्यार लुटाया करते थें।
जब एक ही थाली में,
मिलजुलकर खाया करते थें।
चलो…………..।
हम बड़े हो गये,
क्यों एक दूजे से जुदा हो गये।
जिन्दगी की परेशानियों में,
बचपन ना जाने कहाँ खो गये।
बचपन की सारी बातें,
बस यादों में ही पलते हैं।
चलो फिर से,
उन लम्हों को चुनते हैं।
जब हम छोटे-छोटे बच्चे थे।
????—लक्ष्मी सिंह

494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
"जीवन का प्रमेय"
Dr. Kishan tandon kranti
గురువు కు వందనం.
గురువు కు వందనం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धरती का बेटा गया,
धरती का बेटा गया,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
बादल
बादल
Shutisha Rajput
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
VINOD CHAUHAN
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-487💐
💐प्रेम कौतुक-487💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
“बदलते भारत की तस्वीर”
“बदलते भारत की तस्वीर”
पंकज कुमार कर्ण
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■
■ "अ" से "ज्ञ" के बीच सिमटी है दुनिया की प्रत्येक भाषा। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
गांव के छोरे
गांव के छोरे
जय लगन कुमार हैप्पी
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
Loading...