Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह

जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाहट नहीं होती षड्यंत्रों की शिलवटें होती हैं जिसमें विश्वास घुट कर दम तोड़ देता है।

1 Like · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" मँगलमय नव-वर्ष-2024 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
New Love
New Love
Vedha Singh
तन्हा था मैं
तन्हा था मैं
Swami Ganganiya
कभी सोचता हूँ मैं
कभी सोचता हूँ मैं
gurudeenverma198
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
shabina. Naaz
तू मिल जाए तो
तू मिल जाए तो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जो
जो "नीट" है, उसे क्लीन होना चाहिए कि नहीं...?
*प्रणय प्रभात*
राही
राही
Neeraj Agarwal
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
2814. *पूर्णिका*
2814. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
चौमासे में मरें या वर्षा का इंतजार करें ,
चौमासे में मरें या वर्षा का इंतजार करें ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...